​इमरान ने फिर उगला जहर, चीन-नेपाल के बहाने मोदी सरकार पर किया हमला

​इमरान ने फिर उगला जहर, चीन-नेपाल के बहाने मोदी सरकार पर किया हमला

कोरोना संकट के वक्त जब दुनियाभर के राष्ट्राध्यक्ष इस चुनौती से निपटने में अपनी ऊर्जा लगा रहे हैं तो पाक पीएम इमरान खान अपना समय भारत विरोधी प्रॉपेगैंडा फैलाने में लगा रहे हैं। उन्होंने नेपाल और चीन के साथ चल रहे ताजा सीमा विवादों को लेकर मोदी सरकार पर हमला बोला है। इमरान खान ने ट्वीट कर लिखा कि हिदुत्ववादी मोदी सरकार की अभिमानी विस्तारवादी नीतियां नाजी विचारधारा के समान है।

भारत अपने पड़ोसियों के लिए भी खतरा बन रहा है। नागरिकता कानून के माध्यम से बांग्लादेश नेपाल-चीन के साथ सीमा विवाद और पाकिस्तान को झूठे सैन्य ऑपरेशन करने की धमकी दे रहा है। दूसरे ट्वीट में इमरान ने लिखा कि जम्मू-कश्मीर पर अवैध कब्जा चौथे जेनेवा कन्वेंशन के तहत युद्ध अपराध और वह पाक अधिकृत कश्मीर पर दावा कर रहा है। फासीवादी मोदी सरकार न केवल भारत में अल्पसंख्यकों को दूसरे दर्जे का नागरिकता देती है बल्कि क्षेत्रीय शांति के लिए भी खतरा है। इमरान खान कुछ दिनों के अंतराल के बाद भारत विरोधी ट्वीट करते हैं।

कुछ दिनों पहले उन्होंने ट्वीट किया था कि कश्मीर पर मोदी की आरएसएस- प्रेरित नीति साफ है। अवैध रूप से छीने गए क्षेत्र में कश्मीरियों को अपना फैसला लेने के अधिकार से वंचित किया जा रहा है। इमरान ने आरोप लगाया था कि कश्मीर में रह रहे लोगों के साथ मोदी सरकार अमानवीय रवैया अपना रही है उन्हें शक्तिशाली ताकतों से दबाया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि भारत ने वैश्विक मंचों पर यह साफ किया है कि कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाना हमारा आंतरिक मामला है लिहाजा इस पर कोई देश सवाल न उठाए।

अजहर मसूद से लेकर हाफिज सईद जैसे ग्लोबल टेररिस्ट को शरण देने वाले और आतंकियों को पालपोश कर भारत भेजने की साजिश करने वाला पाक उलटे नई दिल्ली पर आतंकवाद फैलाने का आरोप लगा रहा है। इमरान ने अपने ट्वीट में भारत पर कश्मीर में आतंकवाद फैलाने का आरोप लगाया और यह तक कहा कि इससे दुनिया का ध्यान भटकाने के लिए वह पाकिस्तान के खिलाफ फाल्स फ्लैग ऑपरेशन कर रहा है।

कोरोना संकट के बीच अगर इमरान खान का हाल देखें तो वह खुद ऐसी स्थिति में नहीं जो कोई कड़े फैसले ले सकें। लॉकडाउन के दौरान उलेमाओं के आगे घुटने टेककर मस्जिद के दरवाजे खोल देने वाले इमरान भारत के सामने शेर बन रहे हैं। इतना ही नहीं बलूचिस्तान, सिंध, खैबर पख्तूनख्वाह, गिलगित बाल्टिस्तान में चल रहा आंदोलन हो या फिर आर्थिक संकट या कोरोना से उपजे भयावह हालात किसी से छुपे नहीं हैं।

आईएएनएस की रिपोर्ट के मुताबिक, खुफिया और सुरक्षा एजेंसियों द्वारा इमरान के सोशल मीडिया हैंडल का विश्लेषण किया गया है जिसमें पाया गया है कि उनका 90 फीसदी ट्वीट भारत पर केंद्रित रहता है जिसमें वह सिर्फ भारत के खिलाफ नफरत उगलते हैं।

May 27, 2020 19:24:40 - मे प्रकाशित

अपना काँमेंट लिखें

सब