अमेरिकी संसद ने चीन पर प्रतिबंधों को मंजूरी दी, अब दोनों देशों के बीच और बढ़ेगी दूरी

अमेरिकी संसद ने चीन पर प्रतिबंधों को मंजूरी दी, अब दोनों देशों के बीच और बढ़ेगी दूरी

अमेरिकी संसद (कांग्रेस) ने चीन द्वारा जातीय अल्पसंख्यकों पर क्रूर अत्याचार के खिलाफ आवाज उठाई है। कांग्रेस ने बुधवार को एक द्विदलीय विधेयक पारित किया, जो पश्चिमी जियानजियांग क्षेत्र में उइगर और अन्य जातीय समूहों पर अत्याचार कर रहे चीनी अधिकारियों पर प्रतिबंध लगाएगा। इसी के साथ अमेरिका और चीन के बीच आपसी लड़ाई में एक और अध्याय जुड़ गया।

इस विधेयक को पहले ही सीनेट ने पारित कर दिया था बस इसमें राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के हस्ताक्षर की आवश्यकता थी। चीन के खिलाफ इस विधेयक में अमेरिकी संसद में पक्ष और विपक्ष दोनों ने मिलकर वोट किया। रिपब्लिकन और कांग्रेस के डेमोक्रेटिक सदस्यों ने बिल के समर्थन में बात की थी। कोई भी इसके खिलाफ नहीं बोला, और यह 413-1 वोट से पारित हुआ।

हाउस की स्पीकर नैन्सी पेलोसी ने बिल के समर्थन में एक भाषण में कहा, "चीन जिस तरह उइगर समाज के खिलाफ बर्बरता दिखाता है, वह पूरी दुनिया के सामने है।' कांग्रेस ने पिछले साल जियानजियांग में एक चीनी हरकत की निंदा करने के लिए मतदान किया था, जहां चीनी अधिकारियों ने एक लाख से अधिक लोगों को हिरासत में लिया था, जिसमें ज्यादातर मुस्लिम समूहों से थे, वहीं उइगर, कजाख और किॢगज़ के लोग भी शामिल थे।

May 28, 2020 13:07:38 - मे प्रकाशित

अपना काँमेंट लिखें

सब