नेपाली कम्युनिस्ट पार्टी में आंतरिक कलह तेज, PM ओली की कुर्सी खतरे में

नेपाली कम्युनिस्ट पार्टी में आंतरिक कलह तेज, PM ओली की कुर्सी खतरे में

नेपाल के प्रधानमंत्री केपी ओली ने एक बड़ा राजनयिक फैसला लिया और भारत विरोधी भावना की लहर को जन्म दिया। हालांकि, अपनी स्थिति को मजबूत करने के लिए चलाए गए इस अभियान ने ऐसा मोड़ लिया है कि अब उनकी सरकार पर ही बन आई है। प्रधानमंत्री के रूप में ओली की स्थिति डांवाडोल है और उनकी अपनी पार्टी ही चाहती है कि वो पद छोड़ दें।

नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी असल में दो कम्युनिस्ट पार्टियों का गठबंधन है- एक के अध्यक्ष हैं प्रचंड दहल है, और दूसरी की अध्यक्षता कर रहे हैं के पी शर्मा ओली। प्रचंड दो बार नेपाल के प्रधानमंत्री रह चुके हैं। उनके समर्थकों ने प्रधानमंत्री ओली पर पार्टी और सरकार को विफल करने के आरोप लगाए हैं।

अपने पद पर बने रहने और राष्ट्रवाद साबित करने के लिए ओली ने भारत के खिलाफ एक कठिन फैसला लिया. लेकिन, हवा का रुख बदल गया. इस हफ्ते, ओली सरकार को कई असफलताओं का सामना करना पड़ा। पहला, विपक्ष ने संसद में एक प्रस्ताव पेश किया, जिसमें कहा गया कि चीन ने नेपाल की 64 हेक्टेयर से अधिक भूमि का अतिक्रमण किया है।

Jun 27, 2020 17:24:50 - मे प्रकाशित

अपना काँमेंट लिखें

सब