ब्लाँग

लैंगिक असमानता के बीच अर्थव्यवस्था संभालतीं महिलाएं, जरूरत श्रम के सम्मान की लेकिन हो रहा अवमूल्यन

  • Aug 11, 2020

भावना मासीवाल कोविड-19 महामारी का सबसे ज्यादा प्रभाव मानव जीवन पर पड़ा है। इसके कारण वैश्विक स्तर पर देश की सीमाओं से लेकर व्यापार तक को कुछ समय के लिए बंद कर दिया गया, जिसका सीधा प्रभाव देश की आर्थिक स्थिति पर देखने को मिल रहा है। अर्थव्यवस्था में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है। उत्पादन

पूरी पढ़ें

अंतरराष्ट्रीय बाघ दिवस 2020: बाघ के लिए कहीं अधिक खूंखार है आदमी

  • Jul 31, 2020

बाघ या बड़ी बिल्ली परिवार का कोई भी सदस्य भरे-पूरे वन्यजीव संसार का संकेतक या मापक और स्वस्थ-संतुलित पर्यावरण का प्रतीक होता है, इसलिए इस अति महत्वपूर्ण जीव के विलुप्ति के कगार तक पहुंच जाने से चिंतित बाघों की मौजूदगी वाले 13 देशों ने सेंट पीटर्सबर्ग में 2010 में 2022 तक बाघों की संख्या दोगुनी कर 6 हजार तक पहुंच

पूरी पढ़ें

एक लाख पैकेट प्रसाद बंटेगा, शिलान्यास का एक अहम दस्तावेज़

  • Jul 31, 2020

सरकारी प्रबंधन एक जटिल काम है। इस काम को आम जनता समग्रता में नहीं देख पाती। प्रशासनिक निर्देश की अलग अलग ख़बरों से पता नहीं चलता कि किस तरह से तैयारी की जा रही है। स्थानीय अख़बारों में तो काफ़ी कुछ छपता है मगर फिर भी इन्हें समग्रता से नहीं देखा जाता है। इनका रिसर्च भी नहीं होता है और निर्देश के बाद हर काम कैसे किया

पूरी पढ़ें

पूरा बिहार टूटा पड़ा है, एक सड़क के टूटने पर हंगामा क्यों ?

  • Jul 16, 2020

दुख दुख नहीं जब तक उसकी फ़ोटो नहीं। एक जर्जर प्रदेश में बचा क्या है? लाखों नौजवानों की नसों में घटिया कॉलेज आक्सफोर्ड बनकर दौड़ रहे हैं। परीक्षा समय पर नहीं होती तो क्या नौजवान छाती पीट लेंगे ? जब वे अपनी बर्बादी से संतुष्ट हो सकते हैं तो उम्मीद ही क्यों कि पुल का अप्रोच रोड ढह जाएगा तो बदलने निकलेंगे? जहां की जवानी

पूरी पढ़ें

चीन से हजारों गुणा बेहतर भारत-नेपाल मैत्री संबंध ! 

  • Jul 11, 2020

भारत नेपाल एक ऐसा मित्र राष्ट्र हैं जो पुरे दुनियाँ के लिए एक मिशाल कायम करता है।

पूरी पढ़ें

वेदों में वृक्ष और उनका महत्व !

  • Jun 05, 2020

भारतीय संस्कृति को अरण्य (वृक्षों) की संस्कृति भी कहा जाता है क्योंकि भारतीय संस्कृति और सभ्यता वनों से ही आरम्भ हुई। भारतीय ऋषि-मुनियों, दार्शनिकों, संतों तथा मनस्वियों ने लोकमंगल के लिए चिंतन-मनन किया। अरण्य (वनों) में ही हमारे विपुल वाङ्मय, वेद-वेदांगों, उपनिषदों आदि की रचना हुई। अरण्य में लिखे जाने के का

पूरी पढ़ें

हिन्दी पत्रकारिता दिवस पर विशेष: हिंदी पत्रकारिता का डिजिटल स्वरूप और बदलते तेवर

  • May 31, 2020

पहले समाचार या विचार अखबारों में पढ़े जाते थे, फिर समाचार आकाश से आकाशवाणी के रूप में लोगों के कानों तक पहुंचने लगे। बाद में टेलिविजन का जमाना आया तो लोग समाचारों और अपनी रुचि के विचारों को सुनने के साथ ही सजीव देखने भी लगे। इन इलेक्ट्रॉनिक माध्यमों की बदौलत अशिक्षित लोग भी देश-दुनिया के हाल स्वयं जानने लगे।

पूरी पढ़ें

कोरोना में जीना सिखो

  • May 29, 2020

आनेवाले दिनों में कोरोना के साथ जीवन कैसे जीना है। इसका होमवर्क आज से ही करना ही पडेगा। सरकार ने एक जुन तक लाकडाउन करते हुये भी बहुत जगहों पर भारी छुट दे रखी है। मुम्बई, पुणे जैसे महानगरों से प्रवासी मजदुरों को अपने पृतक घर जाने कि अनुमती और सवारी साधन भी सरकार मुहैया करा रही है। अब शहरों से लोग गाँव जायेंगे। उसमें

पूरी पढ़ें

भारत में 22 करोड़ तो अमरीका मे 4 करोड़ बेरोज़गार, मीडिया में भारी छंटनी 

  • May 29, 2020

अमरीका का श्रम विभाग है। वह बताता है कि इस हफ्ते कितने लोगों को नौकरी मिली है। कितने लोग बेरोज़गार हुए हैं। 10 हफ्तों में अमरीका में 4 करोड़ लोग बेरोज़गार हो चुके हैं। इस हफ्ते के अंत में 21 लाख लोग बेरोज़गारों की संख्या में जुड़े हैं।  भारत में भी श्रम विभाग है। खुद से यह नहीं बताता है कि कितने लोग बेर

पूरी पढ़ें

सबै