ब्रीदिंग एक्सरसाइज इंफेक्शन से लड़ने के लिए आपके फेफड़ों को बनाएगा मजबूत

 1. रिब स्ट्रेचिंग 

रिब स्ट्रेचिंग फेफड़ों की कार्यशैली को बेहतर बनाने के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। इस अभ्यास के लिए, आपको सीधे खड़े होंना है और तब तक सांस छोड़ना है जब तक कि आपके फेफड़े खाली न हों। आप फिर धीरे-धीरे सांस लेंगे, जितना संभव हो सके अपने फेफड़ों को भरें। 20 सेकंड के लिए, या जब तक आप सक्षम हैं, तब तक अपनी सांस रोककर रखें। जब आप गिनती कर रहे हों, तो अपने हाथों को अपने कूल्हों पर रखें, आपके अंगूठे आगे की ओर और आपकी पिंकी उंगलियां आपकी पीठ के छोटे हिस्से को छूती हुई सी रखें। एक बार जब आप अपनी सांस को 20 सेकंड तक रोक कर रखें, तो धीरे-धीरे सांस छोड़ें और आराम की स्थिति में लौट आएं। इसे 3 बार दोहराएं। 

2. उदर श्वास 

इस अभ्यास के लिए, आप अपनी पीठ पर एक आरामदायक स्थिति में लेट जाएंगे। पीठ को गद्दी देने के लिए आप एक योगा मैट या सॉफ्ट पैड का उपयोग कर सकते हैं या फिर आप ऐसा सुबह या शाम को बिस्तर पर लेट कर कर सकते हैं। शुरू करने के लिए, अपने पेट पर एक हाथ और अपनी छाती पर एक हाथ आराम करें। धीरे-धीरे सांस लें जब तक कि आप महसूस न करें कि आपका पेट आपकी छाती से अधिक ऊंचा न हो जाए। अपने मुंह से सांस छोड़ें, और फिर अपनी नाक के माध्यम से फिर से सांस लें, अपने पेट को हर बार उठाने की कोशिश करते रहें। यदि संभव हो, तो अपनी सांस 7 सेकंड के लिए रोकें, और 8 सेकंड के लिए सांस छोड़ें। अब अपने पेट की मांसपेशियों को अपने फेफड़ों से हवा को बाहर निकालने के लिए छोडे दें। इसे 5 बार दोहराएं। 

3. पुशिंग ऑउट 

इस अभ्यास के लिए, आप अपने घुटनों के बल आराम से खड़े होंगे। धीरे-धीरे कमर पर झुकें, अपने फेफड़ों से हवा को बाहर धकेलें। फिर, धीरे-धीरे सीधे सीधे खड़े रहें और तब तक श्वास लेजब तक कि आपके फेफड़े अधिकतम क्षमता से न भर जाएं। 20 सेकंड के लिए या जितनी देर तक आप कर सकते हैं, अपनी सांस रोककर रखें। अपनी सांस को रोकते हुए, धीरे से अपनी बाहों को अपने सिर के ऊपर उठाएं। एक बार जब आप गिनती पूरी कर लेते हैं, तो धीरे-धीरे अपनी बाहों को नीचे लाएं और पूरे मुंह में सांस छोड़ें, आराम की स्थिति में वापस आ जाएं। 4 बार दोहराएं। ये तीनों ही व्यायाम आपके फेफड़ों को मजबूत बनाएंगे और इसे किसी भी संक्रमण से लड़ने की ताकत देंगे। इसलिए अब आप इन ब्रीदिंग एक्सरसाइज एक्सरसाइज को अपने रूटीन में शामिल करें और रोज सुबह या शाम को इसे करें। साथ ही इन दिनों तुलसी वाला काढ़ा और दालचीनी की चाय पिएं, जो आपके फेफड़े में बलगम आदि को जमा नहीं होने देगा। 

प्रकाशित तारीख : 2020-08-17 21:16:46

अपना काँमेंट लिखें