कोरोना इफेक्ट: कभी पैर रखने की जगह नहीं मिलती थी, दिखाई नहीं दे रहे लोग

कोरोना इफेक्ट: कभी पैर रखने की जगह नहीं मिलती थी, दिखाई नहीं दे रहे लोग

कोरोना के कारण दुनिया भर की इकॉनमी के साथ ही टूरिज्म सेक्टर पर भी पर काफी बुरा प्रभाव पड़ा है। दुनिया भर में कई टूरिस्ट डेस्टिनेशन्स हैं, जहां साल भर पैर रखने की जगह नहीं होती थी। लेकिन पिछले कुछ समय से इन फेमस टूरिस्ट डेस्टिनेशन पर आने वाले सैलानियों की संख्या काफी कम हुई है। यहां हम आपको कोरोना के कारण वीरान पड़े कुछ टूरिस्ट डेस्टिनेशन की तस्वीरें दिखा रहे हैं।ग्रैंड रॉयल पैलेस, ​बैंकॉकबैंकॉक का ग्रैंड रॉयल पैलेस भी टूरिस्टों के लिए तरस रहा है। थाइलैंड की टूरिज्म मिनिस्ट्री ने बताया कि इस डेस्टिनेशन में टूरिस्टों की तादाद लगभग आधी हो गई है।

अंगकोर वाट, ​कंबोडिया

कंबोडिया में स्थित अंगकोर वाट मंदिर भगवान विष्णु को समर्पित दुनिया का सबसे बड़ा हिंदू मंदिर है। इस मंदिर को देखने के लिए हर साल लगभग 2 मिलियन लोग आते हैं। लेकिन पिछले कुछ दिनों से यहां आने वाले लोगों को संख्या काफी कम हुई है।

बाली, इंडोनेशिया

इंडोनेशिया का सबसे प्रसिद्ध शहर बाली एक टूरिस्ट डेस्टिनेशन भी है। यह अपने ज्वालामुखी वाले पहाड़, चावल के खेत, बीचेज और अंडरवॉटर कोरल रीफ के लिए दुनियाभर में मशहूर है। यहां मौजूद ढेर सारे मंदिर भी बड़ी संख्या में लोगों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं। लेकिन कोरोना वायरस के डर से यहां काफी कम संख्या में सैलानी आ रहे हैं।

फुकेट, थाईलैंड

फुकेट को थाईलैंड का सबसे रोमांटिक हनीमून स्पॉट भी कह सकते हैं। यहां के खूबसूरत बीच साल भर सैलानियों से पटे रहते हैं, लेकिन कोरोना के कारण यहां अब काफी कम संख्या में पर्यटक आ रहे हैं।

Mar 16, 2020 13:26:30 - मे प्रकाशित

अपना काँमेंट लिखें

सब